Prathviraj Chauhan

Prithvi Raj III, commonly known as Prithviraj Chauhan (1149-1192 CE), was a king of the Hindu Kshatriya Chauhan (Chauhamana) dynasty, who ruled the kingdom of Ajmer and Delhi in northern India during the latter half of the 12th century.


Chauhan was a member of the Gujjar ethnic group,[1][2] and belonged to the Agnivansha group of Rajputs. Chauhan was the last independent Hindu king to sit upon the throne of Delhi.[citation needed] He succeeded to the throne in 1169 CE at the age of 20, and ruled from the twin capitals of Ajmer and Delhi which he received from his maternal grandfather Ballal Sena of the Sena Dynasty in Bengal. He controlled much of present-day Rajasthan and Haryana, and unified the Rajputs against Muslim invasions. His elopement in 1175 with Samyukta (Sanyogita), the daughter of Jai Chandra Rathod, the Gahadvala king of Kannauj, is a popular romantic tale in India, and is one of the subjects of the Prithviraj Raso, an epic poem composed by Chauhan's court poet and friend, Chand Bardai.

Prithviraj Chauhan defeated the Muslim ruler Shahabuddin Muhammad Ghori in the First Battle of Tarain in 1191. Ghauri attacked for a second time the next year, and Prithviraj was defeated and captured at the Second Battle of Tarain (1192). Sultan Ghauri took Prithviraj to Ghazni, where he was executed. After his defeat Delhi came under the control of Muslim ruler

21 comments:

helle said...

It's Attractive post. I liked it.
http://www.hindublog.co.in/

Mughal Tents said...

Awesome description of history about prithvi raj chauhan. I have got lot of information from your blog.

Mughal Tents

pacificglobalcollegedehli said...

Hi,

You have given very nice post it is very knowledgable and result oriented.

Educaton is key of success in life.

We are Pacific Global College offers admission guidance for all professional courses available in India and abroad. We afford the courses Distance Education in Delhi, Best B.Tech College in Delhi, Best MBA College in Delhi, Distance Courses in Delhi/NCR.
We understand that choosing a career option is the most crucial decision, not only for a student, but also for his family since at this point the future of the student will rely. And, if this decision is not taken well, the future might be hazy and it comes with several other social and emotional problems. Thus, we treat every student that come to us individually and offer him career guidance based on his caliber, interest, aptitude, analytical ability, skill and level of knowledge.

QUALITY SERVICES said...

Nice post, I bookmark your blog because I found very good information on your blog, Thanks for sharing more informatiom
http://goo.gl/tGqfRs

eliyayalini said...

Its very useful and great article to post!!
nebosh course in Chennai

safety 1 said...

nebosh course in Chennai
nebosh courses in Chennai
nebosh in Chennai
nebosh course in india
nebosh safety course in Chennai
Diploma in fire and safety course in india
industrial safety course in india
nebosh course in Chennai
nebosh in Chennai

safety Professional said...

industrial safety course in Chennai
nebosh course in chennai
Diploma in fire and safety courses in chennai
safety course in Chennai
nebosh courses in chennai
Diploma in fire and safety course in chennai
nebosh in chennai
Diploma in fire and safety course

safety Professional said...

nebosh course in Chennai
nebosh courses in Chennai
nebosh in Chennai
nebosh course in india
nebosh safety course in Chennai
Diploma in fire and safety course in india
industrial safety course in india
nebosh course in Chennai
nebosh in Chennai


swathi said...

safety engineering courses in chennai
best safety training institute in chennai
Best fire and Safety Institutes in India
diploma in fire and safety courses in chennai
safety courses institute in chennai
safety training courses chennai
safety training institute in Chennai

Vikram Singh Tomar said...

Gujjar are gauchars and Prithviraj was Rajput chauhan. The Kalshyan Gujjars may have Chauhan father and gujjar women.AND ADMIN, It is Gurjara and not GUJJAR is used. GURJARA was used for place like MARU PRADESH, MALWA PRADESH. Had gurjara been named after Gujjar or Gauchars then similarly there should have been Maru Caste or Malwa caste. So it proves the point Gujjar were Gauchar nomads and Prithviraj was Rajput Chauhan.

Vikram Singh Tomar said...

Gujjar are gauchars and Prithviraj was Rajput chauhan. The Kalshyan Gujjars may have Chauhan father and gujjar women.AND ADMIN, It is Gurjara and not GUJJAR is used. GURJARA was used for place like MARU PRADESH, MALWA PRADESH. Had gurjara been named after Gujjar or Gauchars then similarly there should have been Maru Caste or Malwa caste. So it proves the point Gujjar were Gauchar nomads and Prithviraj was Rajput Chauhan.

Umesh Choudhary said...

VIKRAM SINGH TOMAR u are total jealous and a mad man , u urself is using our TOMAR sirname,DELHI KING ANANGPAL TANWAR was also a GURJAR and one thing more ,u were our slaves, ur mention in indian history is nowhere before 1200 AD, KALYSHAN khap is of CHAUHANS n they r GURJAR n we gurjars r ur papa

San Tanwar said...

vikram kbhi history padhna gujjaro ka name phele mil jayga rajput to 13th century se phele name tk nh hai or silaekh ho ya book us time ki check kr pta chal jayga tm kn ho

San Tanwar said...


पं बालकृष्ण गौड लिखते है कि जिसको कहते है रजपूति इतिहास
तेरहवीं सदी से पहले इसकी कही जिक्र तक नही है और कोई एक भी ऐसा शिलालेख दिखादो जिसमे रजपूत शब्द का नाम तक भी लिखा हो। लेकिन गुर्जर शब्द की भरमार है, अनेक शिलालेख तामपत्र है, अपार लेख है, काव्य, साहित्य, भग्न खन्डहरो मे गुर्जर संसकृति के सार गुंजते है ।अत: गुर्जर इतिहास को राजपूत इतिहास बनाने की ढेरो सफल-नाकाम कोशिशे कि गई।

San Tanwar said...


• कविवर बालकृष्ण शर्मा लिखते है :

चौहान पृथ्वीराज तुम क्यो सो गए बेखबर होकर ।
घर के जयचंदो के सर काट लेते सब्र खोकर ॥
माँ भारती के भाल पर ना दासता का दाग होता ।
संतति चौहान, गुर्जर ना छूपते यूँ मायूस होकर

San Tanwar said...


• कर्नल जेम्स टोड कहते है कि राजपूताना कहलाने वाले इस विशाल रेतीले प्रदेश अर्थात राजस्थान में, पुराने जमाने में राजपूत जाति का कोई चिन्ह नहीं मिलता परंतु मुझे सिंह समान गर्जने वाले गुर्जरों के शिलालेख मिलते हैं।

• प्राचीन काल से राजस्थान व गुर्जरात का नाम गुर्जरात्रा (गुर्जरदेश, गुर्जराष्ट्र) था जो अंग्रेजी शासन मे गुर्जरदेश से बदलकर राजपूताना रखा गया ।

San Tanwar said...

The Gurjar is a great race of the world. Gurjars had been ruling the India since historical times, there some families were called Rajputs in medieval period. Rajput, Maratha, Jat and Ahir are heirs of the Khsatriyas. They are not foreigners. there is no community being called Khsatriya except us all. How that Khsatriyan race can be eliminated in which Ram and Krishna were born. All of us Rajput, Maratha, Jat and Ahirs are the stars whereas Gurjar is the Moon in the Khsatriyan sky. It is beyond human power to lessen the dignity of the Gurjars.. (Words By - Thakur Yashpal Singh Rajput

San Tanwar said...

or ha albaruni 11th cetnury mai likha ki gujjar ham arab ke sultano ke sbse bade dushman the agar gujjar na hote to ham 300 saal phele muslim india mai ajate

kanishk singh Tanwar said...

पेहोवा शिलालेख
Shilalekha se bada koi proof nh hai

करनाल जिले में पेहोवा, प्राचीन प्रितुदाका में एक शिलालेख में पाया गया 

दो शिलालेख दिनांकित नौवें शताब्दी ईस्वी पेहोवा में पाया उल्लेख है कि जगह द्वारा नियंत्रित किया गया महेंद्रपाला , की कन्नौज और एक विष्णु मंदिर इस स्थान में निर्माण किया गया था तोमर परिवार है,

ऐतिहासिक संदर्भ तोमर राजवंश के शासनकाल के दौरान जारी किए गए पेहोवा शिलालेख में होता है गुर्जर प्रतिहार राजा महेंद्रपाला ई (आर सी 885-910 सीई) [दिल्ली तोमर कन्नौज के Partiharas के जागीरदार थे]।इस अवांछित शिलालेख में कहा गया है कि तोमर परिवार का जौला एक अज्ञात राजा की सेवा करके समृद्ध हो गया। उनके वंशजों में वज्रता, जजुका और गोगगा शामिल थे। शिलालेख से पता चलता है कि गोगगा महेंद्रपाल आई का एक वासल था। यह गोगगा और उसके सौतेले भाई पूर्ण-राजा और देव-राजा द्वारा तीन विष्णु मंदिरों के निर्माण का रिकॉर्ड करता है । मंदिर सरस्वती नदी के तट पर पृथ्वीुका ( आईएएसटी : पुथुदाका; पेहोवा) में स्थित थे ।गोगगा के तत्काल उत्तराधिकारी के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है। पेहोवा शिलालेख से पता चलता है कि यह विशेष तोमरा परिवार करनाल क्षेत्र के आसपास बस गया था। हालांकि, एफ। किलहॉर्न ने सुझाव दिया कि यह तोमरा परिवार वास्तव में दिल्ली में रहता है: वे तीर्थयात्रा पर पेहोवा गए थे, और वहां एक मंदिर बनाया था

गुर्जर तोमर के हाथों से दिल्ली गुर्जर चौहान के हाथों में कैसे गई।
दिल्ली की स्थापना 736AD में गुर्जर तोमर (तंवर,तुआर्स, टूर्स, तोमर) ने की थी। गुर्जर तोमर का सबसे पुराना संदर्भ कन्नुज के गुर्जर प्रतिहार राजा महेंद्रपाल प्रथम के शासनकाल के हरियाणा के वर्तमान हरियाणा के करनाल जिले में पेहोवा, प्राचीन प्रितुदाका में एक शिलालेख में पाया गया है। यह कहता है कि वे गुर्जर तोमर राजवंश के राजा जुआला थे जिन्होंने गुर्जर प्रतिहार राजा के मामलों की देखभाल करके समृद्धि प्राप्त की थी।
गुर्जर चौहान राजा गुआजर द्वितीय द्वार द्वितीय द्वितीय गुर्जर चौहान राजा चंदन के बेटे ने गुर्जर तोमर राजा रुद्रना को युद्ध में मारा। पुष्कर की धार्मिक इमारतों की नींव उस समय गुर्जर चौहान राजा चंदन की पत्नी ने रखी थी।

इतिहासकार डॉ ऑगस्टस होर्नले का मानना ​​है कि तोमर गुर्जरा (या गुज्जर) के शासक वंश में से एक थे।

इतिहास के लेखक जनरल सर ए कनिंघम के अनुसार, कानाउज के शासकों गुर्जर (गुजर पी -213 का इतिहास) 218)।उनका गोत्रा ​​तोमर था और वे हुन चीफ टोरमन के वंशज हैं।

kanishk singh Tanwar said...

गुर्जर प्रतिहार फोर फादर ऑफ़ राजपूत

गुर्जर प्रतिहार राजपूत कबीले के पूर्व पिता हैं
Gurajr Pratiharas are the fore father of rajput clan

इतिहासकार सर जर्वाइज़ एथेलस्टेन बैनेस ने गुर्जर को सिसोदियास, चौहान, परमार, परिहार, चालुक्य और राजपूत के पूर्वज  थे।

गुर्जर लेखक के एम मुंशी ने कहा कि प्रतिहार, परमार और सोलंकी शाही गुज्जर वंश के थे।

विन्सेंट स्मिथ का मानना ​​था कि गुर्जर वंश, जिसने 4 वीं से 11 वीं शताब्दी तक उत्तरी भारत में एक बड़े साम्राज्य पर शासन किया था, और शिलालेख में "गुर्जर-प्रतिहार" के रूप में उल्लेख किया गया है, निश्चित रूप से गुर्जरा मूल का था।
स्मिथ ने यह भी कहा कि अन्य उत्पनीला क्षत्रिय कुलों की उत्पत्ति होने की संभावना है।

डॉ के। जमानदास यह भी कहते हैं कि प्रतिहार वंश गुर्जरों से निकला है, और यह "एक मजबूत धारणा उठाता है कि अन्य राजपूत समूह भी गुर्जरा या संबद्ध विदेशी आप्रवासियों के वंशज हैं।

डॉ० आर० भण्डारकर प्रतिहारों की गुर्जरों से उत्पत्ति मानते हुए अन्य अग्निवंशीय राजपूतों को भी विदेशी उत्पत्ति का कहते हैं।

नीलकण्ठ शास्री विदेशियों के अग्नि द्वारा पवित्रीकरण के सिद्धान्त में विश्वास करते हैं क्योंकि पृथ्वीराज रासो से पूर्व भी इसका प्रमाण तमिल काव्य 'पुरनानूर' में मिलता है। बागची गुर्जरों को मध्य एशिया की जाति वुसुन अथवा 'गुसुर 'मानते हैं क्योंकि तीसरी शताब्दी के अबोटाबाद - लेख में 'गुशुर 'जाति का उल्लेख है।

जैकेसन ने सर्वप्रथम गुर्जरों से अग्निवंशी राजपूतों की उत्पत्ति बतलाई है। पंजाब तथा खानदेश के गुर्जरों के उपनाम पँवार तथा चौहान पाये जाते हैं। यदि प्रतिहार व सोलंकी स्वयं गुर्जर न भी हों तो वे उस विदेशी दल में भारत आये जिसका नेतृत्व गुर्जर कर रहे थे।
Gurajr Pratiharas are the fore father of rajput clan

राजपूत गुर्जर-प्रतिहार साम्राज्य के सामंत थेIगुर्जर-साम्राज्य के पतन के बाद इन लोगों ने स्वतंत्र राज्य स्थापित किएI

shilalekha se bada koi proof nh 💪
नीलकुण्ड, राधनपुर, देवली तथा करडाह शिलालेख में प्रतिहारों को गुर्जर कहा गया है।
राजौर शिलालेख में प्रतिहारों को गुर्जर कहा गया है।। बादामी के चालुक्य नरेश पुलकेशियन द्वितीय के एहोल अभिलेख में गुर्जर जाति का उल्लेख आभिलेखिक रूप से सर्वप्रथम रूप से हुआ है।
गुर्जर जाति का एक शिलालेख राजोरगढ़ (अलवर जिला) में प्राप्त हुआ है
)। मार्कंदई पुराण और पंचतंत्र में, गुर्जर जनजाति का एक संदर्भ है।

समकालीन अरब यात्री सुलेमान ने गुजरर सम्राट मिहिरभोज को भारत में इस्लाम का सबसे बड़ा दुश्मन करार दिया गया था, क्योंकि गुर्जर राजाओं ने 10 वीं सदी तक इस्लाम को भारत में घुसने नहीं दिया था। मिहिरभोज के पौत्र महिपाल को आर्यवृत्त का महान सम्राट कहा जाता था। गुर्जर संभवतः हुनों और कुषाणों की नई पहचान थीं तो हुनों गुर्जरों हिन्दू धर्म और संस्कृति के संरक्षण और विकास में अति महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, इस कारण से सम्राट मिहिरकुलहुन और सम्राट मिहिरभोज सम्राट अशोक से भी महान थे।

मेहरौली, जिसे पहले मिहिरावाली के नाम से जाना जाता था, का मतलब मिहिर का घर, गुर्जर-प्रतिहार वंश के राजा मिहिर भोज द्वारा स्थापित किया गया था।
मेहरौली उन सात प्राचीन शहरों में से एक है जो दिल्ली की वर्तमान स्थिति बनाते हैं। लाल कोट किला का निर्माण गुर्जर तनवार प्रमुख अंंगपाल प्रथम द्वारा 731 के आसपास किया गया था और 11 वीं शताब्दी में अनांगपाल द्वितीय द्वारा विस्तारित किया गया था, जिसने अपनी राजधानी को कन्नौज से लाल कोट में स्थानांतरित कर दिया था। गुर्जर तनवार 12 वीं शताब्दी में चौहानों द्वारा पराजित हुए थे। पृथ्वीराज चौहान ने किले का विस्तार किया और इसे किला राय पिथोरा कहा। उन्हें 11 9 2 में मोहम्मद घोरी ने पराजित किया, जिन्होंने अपना सामान्य कुतुब-उद-दीन अयबाक को प्रभारी बना दिया और अफगानिस्तान लौट आया।.................

इतिहासकार डॉ ऑगस्टस होर्नले का मानना ​​है कि तोमर गुर्जरा (या गुज्जर) के शासक वंश में से एक थे।

राम सरप जून लिखते हैं कि ... गुजराती इतिहास के लेखक अब्दुल मलिक मशर्मल लिखते हैं कि गुजर इतिहास के लेखक जनरल सर ए कनिंघम के अनुसार, कानाउज के शासकों गुजर (गुजर पी -213 का इतिहास) 218)। उनका गोत्रा ​​तोमर था और वे हुन चीफ टोरमन के वंशज हैं।

गुर्जर प्रतिहार साम्राज्य अनेक भागों में विभक्त था। ये भाग सामन्तों द्वारा शासित किये जाते थे। इनमें से मुख्य भागों के नाम थे:

शाकम्भरी (सांभर) के चाहमान (चौहान)
दिल्ली के तौमर
मंडोर के गुर्जर प्रतिहार
बुन्देलखण्ड के कलचुरि
मालवा के परमार
मेदपाट (मेवाड़) के गुहिल
महोवा-कालिजंर के चन्देल
सौराष्ट्र के चालुक्य

kanishk singh Tanwar said...

गुर्जर प्रतिहार फोर फादर ऑफ़ राजपूत

गुर्जर प्रतिहार राजपूत कबीले के पूर्व पिता हैं
Gurajr Pratiharas are the fore father of rajput clan

इतिहासकार सर जर्वाइज़ एथेलस्टेन बैनेस ने गुर्जर को सिसोदियास, चौहान, परमार, परिहार, चालुक्य और राजपूत के पूर्वज  थे।

गुर्जर लेखक के एम मुंशी ने कहा कि प्रतिहार, परमार और सोलंकी शाही गुज्जर वंश के थे।

विन्सेंट स्मिथ का मानना ​​था कि गुर्जर वंश, जिसने 4 वीं से 11 वीं शताब्दी तक उत्तरी भारत में एक बड़े साम्राज्य पर शासन किया था, और शिलालेख में "गुर्जर-प्रतिहार" के रूप में उल्लेख किया गया है, निश्चित रूप से गुर्जरा मूल का था।
स्मिथ ने यह भी कहा कि अन्य उत्पनीला क्षत्रिय कुलों की उत्पत्ति होने की संभावना है।

डॉ के। जमानदास यह भी कहते हैं कि प्रतिहार वंश गुर्जरों से निकला है, और यह "एक मजबूत धारणा उठाता है कि अन्य राजपूत समूह भी गुर्जरा या संबद्ध विदेशी आप्रवासियों के वंशज हैं।

डॉ० आर० भण्डारकर प्रतिहारों की गुर्जरों से उत्पत्ति मानते हुए अन्य अग्निवंशीय राजपूतों को भी विदेशी उत्पत्ति का कहते हैं।

नीलकण्ठ शास्री विदेशियों के अग्नि द्वारा पवित्रीकरण के सिद्धान्त में विश्वास करते हैं क्योंकि पृथ्वीराज रासो से पूर्व भी इसका प्रमाण तमिल काव्य 'पुरनानूर' में मिलता है। बागची गुर्जरों को मध्य एशिया की जाति वुसुन अथवा 'गुसुर 'मानते हैं क्योंकि तीसरी शताब्दी के अबोटाबाद - लेख में 'गुशुर 'जाति का उल्लेख है।

जैकेसन ने सर्वप्रथम गुर्जरों से अग्निवंशी राजपूतों की उत्पत्ति बतलाई है। पंजाब तथा खानदेश के गुर्जरों के उपनाम पँवार तथा चौहान पाये जाते हैं। यदि प्रतिहार व सोलंकी स्वयं गुर्जर न भी हों तो वे उस विदेशी दल में भारत आये जिसका नेतृत्व गुर्जर कर रहे थे।
Gurajr Pratiharas are the fore father of rajput clan

राजपूत गुर्जर-प्रतिहार साम्राज्य के सामंत थेIगुर्जर-साम्राज्य के पतन के बाद इन लोगों ने स्वतंत्र राज्य स्थापित किएI

shilalekha se bada koi proof nh 💪
नीलकुण्ड, राधनपुर, देवली तथा करडाह शिलालेख में प्रतिहारों को गुर्जर कहा गया है।
राजौर शिलालेख में प्रतिहारों को गुर्जर कहा गया है।। बादामी के चालुक्य नरेश पुलकेशियन द्वितीय के एहोल अभिलेख में गुर्जर जाति का उल्लेख आभिलेखिक रूप से सर्वप्रथम रूप से हुआ है।
गुर्जर जाति का एक शिलालेख राजोरगढ़ (अलवर जिला) में प्राप्त हुआ है
)। मार्कंदई पुराण और पंचतंत्र में, गुर्जर जनजाति का एक संदर्भ है।

समकालीन अरब यात्री सुलेमान ने गुजरर सम्राट मिहिरभोज को भारत में इस्लाम का सबसे बड़ा दुश्मन करार दिया गया था, क्योंकि गुर्जर राजाओं ने 10 वीं सदी तक इस्लाम को भारत में घुसने नहीं दिया था। मिहिरभोज के पौत्र महिपाल को आर्यवृत्त का महान सम्राट कहा जाता था। गुर्जर संभवतः हुनों और कुषाणों की नई पहचान थीं तो हुनों गुर्जरों हिन्दू धर्म और संस्कृति के संरक्षण और विकास में अति महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, इस कारण से सम्राट मिहिरकुलहुन और सम्राट मिहिरभोज सम्राट अशोक से भी महान थे।

मेहरौली, जिसे पहले मिहिरावाली के नाम से जाना जाता था, का मतलब मिहिर का घर, गुर्जर-प्रतिहार वंश के राजा मिहिर भोज द्वारा स्थापित किया गया था।
मेहरौली उन सात प्राचीन शहरों में से एक है जो दिल्ली की वर्तमान स्थिति बनाते हैं। लाल कोट किला का निर्माण गुर्जर तनवार प्रमुख अंंगपाल प्रथम द्वारा 731 के आसपास किया गया था और 11 वीं शताब्दी में अनांगपाल द्वितीय द्वारा विस्तारित किया गया था, जिसने अपनी राजधानी को कन्नौज से लाल कोट में स्थानांतरित कर दिया था। गुर्जर तनवार 12 वीं शताब्दी में चौहानों द्वारा पराजित हुए थे। पृथ्वीराज चौहान ने किले का विस्तार किया और इसे किला राय पिथोरा कहा। उन्हें 11 9 2 में मोहम्मद घोरी ने पराजित किया, जिन्होंने अपना सामान्य कुतुब-उद-दीन अयबाक को प्रभारी बना दिया और अफगानिस्तान लौट आया।.................

इतिहासकार डॉ ऑगस्टस होर्नले का मानना ​​है कि तोमर गुर्जरा (या गुज्जर) के शासक वंश में से एक थे।

राम सरप जून लिखते हैं कि ... गुजराती इतिहास के लेखक अब्दुल मलिक मशर्मल लिखते हैं कि गुजर इतिहास के लेखक जनरल सर ए कनिंघम के अनुसार, कानाउज के शासकों गुजर (गुजर पी -213 का इतिहास) 218)। उनका गोत्रा ​​तोमर था और वे हुन चीफ टोरमन के वंशज हैं।

गुर्जर प्रतिहार साम्राज्य अनेक भागों में विभक्त था। ये भाग सामन्तों द्वारा शासित किये जाते थे। इनमें से मुख्य भागों के नाम थे:

शाकम्भरी (सांभर) के चाहमान (चौहान)
दिल्ली के तौमर
मंडोर के गुर्जर प्रतिहार
बुन्देलखण्ड के कलचुरि
मालवा के परमार
मेदपाट (मेवाड़) के गुहिल
महोवा-कालिजंर के चन्देल
सौराष्ट्र के चालुक्य